जीवन में आयुर्वेद का महत्व
Spread the love

आज हम indianwomenlife.com पर आयुर्वेद के महत्व (benefits of Ayurveda) का जानने की कोशिश करेंगे 

स्वस्थ होने का अर्थ ये नहीं की की हम सारे रोगों से मुक्त हो जाएँ, प्राचीन काल से मन की शांति और व्यक्तित्व की पूर्णता ही पूर्ण स्वस्थ के रूप में देखा जाता था. हमारे पूर्ण स्वस्थ के लिए आध्यात्मिक और चिकित्सा पद्दति हमेशा से सहायक रही है, उसमे से ही यदि देखा जाये तो आयुर्वेद मुख्या रूप से व्यक्ति को पूर्ण और दीर्घ कालीन स्वस्थ प्रदान करती है.

Why is Ayurveda important?

हमारे ऋषियों ने हमें आयुर्वेद चिकित्सा के लिए बहुत सी महत्वपूर्ण किताब हमें gift दी है वो है चरक सहिंता. जो की कहते है, कि ये किताब अर्थवेद के लगभव एक हज़ार साल बाद लिखी गई थी. आयुर्वेद का विकास भी अर्थवेद के आधार पर ही तय किया गया था.

हिन्दू धर्म के अनुसार कहा जाता है कि अत्रि ऋषि को अर्थवेद का ज्ञान देवताओं से मिला था. जो ब्रह्मा द्वारा देवतों को दिया गया था. इसका सीधा अर्थ है कि आयुर्वेद सृष्टि के साथ ही आयुर्वेद का जनम हुआ. आयुर्वेद के ज्ञान को अत्रि ऋषि द्वारा अन्य ऋषियों को दिया गया जो बाद में ऋषि चरक द्वारा इसको पूर्ण रूप दिया गया, जो चरक सहिंता के नाम से जाना जाता है.

अब हम ज्यादा गहराई में न जाकर सीधे ayurved के महत्व पर चलते हैं, जैसे कि आप जानते हैं कि हमारा शरीर पांच महाभूत 

1. आकाश 2. वायु, 3. जल, 4. अग्नि, और 5. पृथ्वी

से मिलकर बना है, इसलिए हमारे शरीर को भौतिक शरीर कहा जाता है, इस शरीर में हमारी आत्मा जो कि परम पुरुष के एक छोटा सा अंश है निवास करती है, ये आत्मा अजर – अमर है भौतिक शरीर तो मिटता रहता है, अब ये शरीर भौतिक होने के कारण पृथ्वी के जो पांच महाभूत तत्व हैं उनकी कमी या अधिकता से हमारे शरीर पर भी अच्छा या बुरा असर पड़ता है.

आयुर्वेद (ayurved) में रोगों का अर्थ केवल शारीरक रोगों से नहीं है बल्कि इसमें मानसिक रोग भी शामिल है, क्यूंकि यदि शरीर स्वस्थ नहीं होगा तो मन भी कहीं न कहीं बीमार रहेगा. इसलिए सबसे पहले आयुर्वेद में शरीर को स्वस्थ रखना जरुरी बतलाया गया है, आयुर्वेद चिकित्सा पद्द्ति में रोगी का इस तरह इलाज किया जाता है कि रोग को जड़ से मिटाया जा सके है, अर्थात रोग के कारण को ही ख़त्म किया जाता है.

लेख पूर्ण निचोड़ ये कहता है कि हमें हमारे ऋषियों द्वारा दिए गए चिकित्सा पद्दति को नहीं भूलना चाहिए और आयुर्वेद को अपनाकर रोगों से पूर्ण मुक्ति पाएं.

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *