जरा ध्‍यान दीजीए! बार-बार वैक्‍स कराना स्किन के ल‍िए हो सकता खतरनाक
Spread the love
शरीर के अनचाहे बालों का हटाने के ल‍िए वैक्सिंग सबसे सस्‍ता और सरल साधन है। वैक्सिंग दस से 15 दिनों का अस्‍थायी उपचार देते हैं। इसलिए वैक्सिंग अनचाहे बालों से लंबे समय तक छुटकारा पाने का सबसे अच्‍छा तरीका है। रेजर या हेयर रिमूवर के इस्तेमाल से कई बार बालों की ग्रोथ जल्‍दी उग जाती है। इसके लिए वैंक्सिंग ही सबसे बेहतर रहती है लेकिन बार-बार बिना अंतराल के वैंक्सिग कराने से कई तरह की समस्या हो सकती है जैसे इंफेक्‍शन और त्‍वचा पर जलन होना। आइए जानते हैं कि वैंक्सिंग से क्या-क्या नुकसान होते हैं।

लचीलापन होता है कम कुछ लड़कियां शरीर पर जरा सा बाल आते ही वह जल्‍दी-जल्‍दी वैक्सिंग कराने लगती हैं। लेकिन आप नहीं जानते होंगे कि थोड़े अंतराल में बार-बार वैक्सिंग कराते है तो आप अपनी त्‍वचा का लचीलापन खो देती है। इसकी वजह से त्‍वचा में जल्‍द ही झुर्रियों की संभावना बढ़ जाती है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप वैक्‍स स्ट्रिप को कितनी आराम से निकालते है, लेकिन बार-बार ऐसा करने से निश्चित रूप से आपकी त्‍वचा ढ़ीली होने लगती है।

जलन और लाली बार-बार वैक्सिंग की वजह से शरीर के आसपास लाल-लाल चकते के न‍िशान बन जाते हैं। हालांकि यह साइड इफेक्‍ट हर किसी को नहीं होते हैं, लेकिन अगर आप त्‍वचा संवेदनशील है तो बार-बार वैक्‍स कराने से आपको जलन की शिकायत हो सकती है। इसल‍िए आपको इस तरह की समस्‍याओं को सामना करना पड़ सकता है। बर्फ से सिंकाई आपकी त्‍वचा को शांत करने में मदद करती है।
वैक्सिंग के बाद आपको खुजली जैसा भी महसूस हो सकता है, और आप त्वचा पर खुजली करते है तो त्‍वचा पर चकत्ते और लाल दाने जैसे उभरने लगते हैं। अ‍त्‍यधिक संवेदनशील त्‍वचा के लिए बिकनी वैक्सिंग कई तरह की समस्‍याओं का कारण बन सकती है। त्‍वचा पर चकत्‍ते होने पर स्‍वीमिंग पूल से बचें।

वैक्सिंग करने से ब्लीडिंग वैक्सिंग के बाद आपको हल्की ब्लीडिंग जैसी समस्याओं हो सकती है। क्‍योंकि बार-बार वैक्‍स करवाने से स्किन संवेदनशील बन जाती है। वैक्‍स स्ट्रिप खींचने के बाद पोर्स से खून आने लगता है। तुरंत ठंडा सेक लगाने से खून बहाना बंद हो जाता है और बाद में लाल धब्‍बे में नहीं पड़ते।

इंफेक्‍शन होने का डर वैक्‍स करने से पहले और बाद में त्वचा को साफ जरूर करें, क्योंकि वैक्सिंग के बाद त्वचा पर संक्रमण होने की संभावना हो सकती हैं। वैक्स हमेशा एयरकंडीश्‍नर कमरे में ही करनी चाहिए। क्योंकि गर्मियों में त्वचा पर हल्का-हल्का पसीना रहता ही है जिसके कारण यह सही ढंग से हो जाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *