गर्भ में ही बच्चे का आईक्यू को करें बूस्ट
Spread the love

हर माँ बाप की यह इच्छा होती है की उनका बच्चा स्वस्थ और हष्ट- पुष्ट के साथ ही उसका आई-क्यू भी अच्छा हो. लेकिन इन सब बातों को अपने बच्चे में देखने का लिए यह ज़रूरी है कि आप गर्भावस्था के दौरान कुछ ज़रूरी बातों का ख़याल रखें. दरअसल स्वास्थ विशेषज्ञ यह मानते है कि गर्भ में ही बच्चो का आई-क्यू लेवल विकसित किया जा सकता है. आइए जानते है indianwomenlife.com  पर कि ऐसी कौन सी बातों का एक गर्भवती महिला को ध्यान रखना चाहिए जिनसे वह अपने होने वाले बच्चे का आई-क्यू को बड़ा सकती है.

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने हाल ही में उन कारकों का पता लगाने का दावा किया है जिसके जरिए गर्भ में ही बच्चे का आईक्यू लेवल विकसित किया जा सकता है. ऐसे में अगर मां चाहे तो वह गर्भ में ही बच्चे के आईक्यू को बूस्ट (Boost Child’s IQ during Pregnancy)  करने में अहम भूमिका निभा सकती है.

आवाज का अहसास
अच्छी किताबें पढ़ना और सुकून भरे गीत व कविताएं मां की आवाज में सुनना बच्चे के लिए बहुत फायदेमंद होता है. इससे उसका मस्तिष्क तेजी से बढ़ता है.

सही खानपान
गर्भावस्था के दौरान सही खानपान न केवल मां के लिए फायदेमंद होता है बल्कि इससे बच्चे के विकास पर भी सकारात्मक असर पड़ता है.

बाहरी चीजों का असर
मां की छुअन भी बच्चे के मानसिक विकास को प्रभावित करती है. साथ ही कोशिश की जानी चाहिए कि गर्भ पर कभी भी सीधी रोशनी न पड़े. यह बच्चे के लिए खतरनाक हो सकती है. साथ ही मां के सोने का तरीका, उठने-बैठने और चलने का तरीका भी बच्चे के मानसिक विकास के लिए जिम्मेदार होता है.

तनाव से रहें दूर
गर्भावस्था के दौरान अगर मां तनाव लेती हैं तो इसका नकारात्मक परिणाम बच्चे को भी भुगतना पड़ सकता है. इसलिए मां को कोशिश करनी चाहिए कि वह हर तरह के मानसिक तनाव और चिंता से दूर रहे.

बुरी आदतों को छोड़ दें
अगर गर्भवती महिला धूम्रपान करती है तो इसका असर बच्चे के मानसिक विकास पर भी हो सकता है. गर्भावस्था के दौरान धूम्रपान और किसी भी तरह का नशा करना बच्चे की सेहत के साथ खिलवाड़ हो सकता है. इसलिए इससे बचें.

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *