बच्चों में शुगर diabetes in children
Spread the love

How do you know if child has diabetes – शुगर का लेवल बढ़ने पर सभी को टेंशन होती है. छोटे बच्चे हों या बड़े, पुरुष हो या महिला शुगर की चिंता सभी को रहती है.

  • जितनी मीठी ये लगती है इसका लेवल बढ़ने पर उतनी ही नुक्सानदायक होती है.
  • हम तो अपना ख्याल रख लेते है मगर हमारे छोटे बच्चों को कैसे शुगर के बढ़ने के नुकसान से बचाएं.
  • मीठे से क्या नुक्सान है बच्चों को
  • बच्चा यदि ज्यादा मीठा खाता है तो ये उसके स्वस्थ के लिए हानिकारक हो सकता है.
  • बच्चों को इसके बारे में बताना, बड़े हुए शुगर के लेवल के नुकसान को बताना एक चुनौतीपूर्ण काम है. मगर हमको इसको करना जरुरी है.
  • छोटे बच्चों को Toffee, Chocolate, Candy, Ice cream जैसी चीज़ें काफी पसंद हैं और बच्चों की पंसदीदा चीज़ों से दूर रखना काफी कठिन काम है.
  • मीठे प्रोडक्ट से केवल शुगर नहीं बल्कि दांतों में कीड़े लगने का भी डर होता है. जो कि उनके अच्छे स्वस्थ के लिए बहुत नुकसानदायक होता है.
  • Candy, Juice और Breakfast में दिए गए मीठे से बच्चों में hypertension और fatty Lever जैसी समस्या आ सकती हैं.

उच्च रक्त शर्करा एवं निम्न रक्त शर्करा क्या है.

जब शरीर में इन्सुलीन का स्त्राव कम हो जाती है तो शुगर का लेवल अपनेआप ही बढ़ जाता है. सीधा सा मतलब है कि जब शर्करा यानि ग्लूकोस का स्तर सामान्य से अधिक हो जाता है तो उच्च रक्त शर्करा हो जाता है.

बच्चों में निम्न रक्त शर्करा भी सकता है. ये नींद के दौरान या बड़ों को शराब पीने के कारण भी हो सकता है.

How to recognize diabetes in children

यदि आपको बच्चा बार-बार या जल्दी-जल्दी बाथरूम करने जाता है तो इसे सामान्य गतिविधि न समझे बल्कि गंभीरता से लें.  कई बार छोटे बच्चों को बार-बार प्यास भी लगती है जो कि इस बीमारी का लक्षण भी होता है. इसलिए आपको निम्न बिंदुओं पर ध्यान देने की जरुरत है.

ज्यादा प्यास लगना – बच्चों को पानी पीने के कुछ समय बाद ही फिर से प्यास लगने लगती है. और ये प्यास जल्दी जल्दी लगने लगती है.

बार-बार पेशाब करने जाना – पानी की कमी के बावजूद बच्चे बार-बार पेशाब करते हैं.

भूख का वेवजह बढ़ना – भर पेट खाना खाने के बाद भी बच्चे बार-बार खाना मांगते हैं.

वजन कम होना – भूख बढ़ गई और खाना भी अच्छा खा रहे हैं फिर भी छोटा बच्चा यदि शारीरिक रूप से कमजोर नज़र आ रहा है.

थकान होना – थोड़ा भी चलने या दौड़ने पर काफी थकान होना

कैसे रखें दूर बच्चों को डाइबिटीज़ से –  How do you know if child has diabetes

  • समय पर इन्सुलीन दें.
  • बच्चें एक निश्चित समय पर ही भोजन करें.
  • बच्चों को नियमित कसरत कराएं.
  • स्वस्थ पर निगरानी रखें.
  • आपके बच्चों को मीठे खाने की आदत न पड़ने दें.
  • Protein की मात्रा बढ़ाएं.

चिकित्सक के अनुसार बच्चों में Television, Mobile और Video Games के कारण एक जगह बैठने से भी मधुमेह का लेवल बढ़ जाता है.

इन्सुलीन की कमी भी इसका प्रमुख कारण होता है. बच्चों का ख्याल रखना उनके अभिभावक की जिम्मेदारी होती है.

Candy और Chocolate में Sugar की मात्रा बहुत ज़्यादा होती है और पौष्टिक तत्त्व बिलकुल नहीं होते, बच्चों को इनसे दूर रखें. हमारे बच्चो का स्वस्थ हमारे हाथ में होता है तो हमेशा बच्चों का ख्याल रखें.

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *