आपने कभी सोचा है की - What happens if baby is born early?

भारत में एक साल में पैदा होने वाले कुल शिशुओं में से 13 फीसदी शिशु समय से पहले जन्म लेते हैं। कुछ शिशु समय से पहले पैदा क्यों होते हैं, यह बात अभी तक स्पष्ट नहीं है। स्वस्थ महिलाओं में गर्भावस्था पूरे नौ महीने चलने की संभावना अधिक रहती है। हालांकि, यह बात तो डॉक्टर भी पूरे विश्वास के साथ नहीं बता सकते कि कौन से शिशु समय से पहले जन्म लेंगे।

वे कारण जिनकी वजह से समय से पहले जन्म की संभावना बढ़ती है :-

आपका शिशु 34 सप्ताह की गर्भावस्था से पहले पैदा हुआ है, तो उसे तुरंत नवजात गहन चिकित्सा कक्ष (एन.आई.सी.यू.) में ले जाने की जरुरत हो सकती है। कक्ष में ले जाने से पहले आपको अपने शिशु की शायद हल्की सी झलक ही देखने को मिले। हो सकता है यह सब देखकर आप कुछ डर सी जाएं।

अपनी डॉक्टर या अपने शिशु के डॉक्टर से बात करें, ताकि आप सारी स्थिति से अवगत हो सकें। अगर, आप रिश्तेदारों और दोस्तों के सवालों से परेशान हो रही हों, तो अपनी डॉक्टर से मदद ​के लिए कहें। हो सकता है कि वह लोगों का आपसे मिलने का समय या फिर आपसे मिलने वाले लोगों की संख्या सीमित कर सकें।

आपके पति रिश्तेदारों और दोस्तों को बाद में आपसे घर पर आकर मिलने के लिए कह सकते हैं, क्योंकि अभी आप और शिशु दोनों ही प्रसव की थकान से उबर रहे हैं।

आपका शिशु जब नवजात गहन देखभाल कक्ष में होगा, तो डॉक्टर आपको उससे अक्सर मिलने की इजाजत दे सकती हैं। वे आपको शिशु की लंगोट (नैपी) बदलने, उसे सहलाने, उससे बात करने और शायद उसे थामकर स्तनपान कराने की भी इजाजत देंगी।

34 से 36 सप्ताह की गर्भावस्था के बीच पैदा हुए शिशु को शायद किसी चिकित्सकीय उपचार की आवश्यकता न हो। हो सकता है जन्म के बाद वह आपके साथ सीधे आपके कक्ष में आए। आपको एक प्राइवेट वार्ड की पेशकश भी की जा सकती है, जहां आपको शिशु के साथ अतिरिक्त मदद दी जाएगी।

आपको शिशु को स्तनों के करीब सीने से लगा कर रखने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। यह आपके शिशु को तेजी से विकसित होने के लिए उचित शारीरिक व भावनात्मक परिस्थिति प्रदान करेगा। यहां और अधिक पढ़ें कि अपने समय से पहले जन्मे शिशु की देखभाल कैसे की जाए।

"/>
समय से पहले जन्मे बच्चे को हो सकती हैं समस्याएं
Spread the love

आपने कभी सोचा है की – What happens if baby is born early?

भारत में एक साल में पैदा होने वाले कुल शिशुओं में से 13 फीसदी शिशु समय से पहले जन्म लेते हैं। कुछ शिशु समय से पहले पैदा क्यों होते हैं, यह बात अभी तक स्पष्ट नहीं है। स्वस्थ महिलाओं में गर्भावस्था पूरे नौ महीने चलने की संभावना अधिक रहती है। हालांकि, यह बात तो डॉक्टर भी पूरे विश्वास के साथ नहीं बता सकते कि कौन से शिशु समय से पहले जन्म लेंगे।

वे कारण जिनकी वजह से समय से पहले जन्म की संभावना बढ़ती है :-

समय से पहले जन्मे बच्चे को हो सकती हैं समस्याएं 1

  • योनी में जीवाणु संक्रमण
  • गर्भ में जुड़वा या इससे अधिक शिशु पलना
  • गर्भावस्था के दौरान अत्याधिक रक्तस्त्राव
  • गर्भाशय की विकृति या असामान्यता
  • पिछली गर्भावस्थाओं को समाप्त करवाना (गर्भपात करवाना)
  • पिछली गर्भावस्थाओं में गर्भपात हो जाना, विशेषकर 16 से 24 सप्ताह के बीच

आपका शिशु 34 सप्ताह की गर्भावस्था से पहले पैदा हुआ है, तो उसे तुरंत नवजात गहन चिकित्सा कक्ष (एन.आई.सी.यू.) में ले जाने की जरुरत हो सकती है। कक्ष में ले जाने से पहले आपको अपने शिशु की शायद हल्की सी झलक ही देखने को मिले। हो सकता है यह सब देखकर आप कुछ डर सी जाएं।

समय से पहले जन्मे बच्चे को हो सकती हैं समस्याएं 2

अपनी डॉक्टर या अपने शिशु के डॉक्टर से बात करें, ताकि आप सारी स्थिति से अवगत हो सकें। अगर, आप रिश्तेदारों और दोस्तों के सवालों से परेशान हो रही हों, तो अपनी डॉक्टर से मदद ​के लिए कहें। हो सकता है कि वह लोगों का आपसे मिलने का समय या फिर आपसे मिलने वाले लोगों की संख्या सीमित कर सकें।

आपके पति रिश्तेदारों और दोस्तों को बाद में आपसे घर पर आकर मिलने के लिए कह सकते हैं, क्योंकि अभी आप और शिशु दोनों ही प्रसव की थकान से उबर रहे हैं।

आपका शिशु जब नवजात गहन देखभाल कक्ष में होगा, तो डॉक्टर आपको उससे अक्सर मिलने की इजाजत दे सकती हैं। वे आपको शिशु की लंगोट (नैपी) बदलने, उसे सहलाने, उससे बात करने और शायद उसे थामकर स्तनपान कराने की भी इजाजत देंगी।

34 से 36 सप्ताह की गर्भावस्था के बीच पैदा हुए शिशु को शायद किसी चिकित्सकीय उपचार की आवश्यकता न हो। हो सकता है जन्म के बाद वह आपके साथ सीधे आपके कक्ष में आए। आपको एक प्राइवेट वार्ड की पेशकश भी की जा सकती है, जहां आपको शिशु के साथ अतिरिक्त मदद दी जाएगी।

आपको शिशु को स्तनों के करीब सीने से लगा कर रखने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। यह आपके शिशु को तेजी से विकसित होने के लिए उचित शारीरिक व भावनात्मक परिस्थिति प्रदान करेगा। यहां और अधिक पढ़ें कि अपने समय से पहले जन्मे शिशु की देखभाल कैसे की जाए।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *