क्यों नहीं रहना चाहिए दक्षिणमुखी मकान में
Spread the love

Indianwomenlife पर आज हम बात करेंगे कि आखिर क्यों नहीं रहना चाहिए दक्षिणमुखी मकान में.  एक साधारण आदमी बड़ी मेहनत से थोड़े-थोड़े पैसे जोड़कर मकान खरीदने लायक होता है, लेकिन जब मकान खरीदने जाता है तो उसे Vastu Dosh का बड़ा ध्यान रखना पड़ता है, जैसे की मकान का मुख्य द्वार किस दिशा में, किचन किस दिशा में है, बाथरूम कहाँ बानी है, आदि. घर का मुख्या द्वार ही यदि गलत दिशा में हो तो फिर अंदर की बात तो सोचना छोड़ ही देता है, अब सही दिशा कौनसी है और गलत कौनसी है, मकान का मुख्या द्वार पूर्व में या दक्षिण में मकान खरीदने वाले के लिए सबसे बड़ी समस्या यही ही होती है.

हिन्दू धर्म और वास्तुशास्त्र के अनुसार कहा जाता है कि दक्षिण दिशा में मकान नहीं होना चाहिए, क्योंकि ऐसा बोलै जाता है कि मृत्यु के देवता यानि यमराज इसी दिशा के स्वामी माने जाते हैं , इसलिए दक्षिण दिशा को शुभ नहीं माना जाता हैं ,

कुछ इन कारणों द्वारा दक्षिण मुखी मकान में रहने से वस्तुदोष लगता हैं –

1 . यम स्थान –

यम और यमदुतो का निवास स्थान होने के कारण दक्षिण मुखी मकान अशुभ माना जाता हैं इसमें रहने से मन विचलित रहता हैं ।

2 . नकारात्मक ऊर्जा –

यदि आपका मकान की दिशा दक्षिण की है तो यूँ समझ लीजिये आपके मकान पर ‘Negative Energy’ नकारात्मक ऊर्जा का असर पड़ सकता हैं , हमारे बुजुर्गो के कहने के अनुसार तो दक्षिण दिशा में पैर करके भी नहीं सोना चाहिए, क्यूंकि जो इंसान दक्षिण दिशा में पैर करके सोता है उसके फेफड़ो की गति मंद हो जाती हैं ।

3 . गर्मी का अधिक होना –

मौसम कि बात करें इसी दिशा में सूर्य सबसे ज्यादा करीब होता है, इसलिए दक्षिण मुखी मकानों गर्मी का अधिक अहसास होते आपने देखा होगा. जिससे दक्षिण दिशा का मकान अधिक गर्म हो जाता हैं और यही कारण है की इस दिशा के मकान में गर्मी का अहसास ज्यादा महसूस किया जाता है.

4 . मंगल ग्रह –
मंगल ग्रह एक क्रूर ग्रह की श्रेणी में आता है, और ये ग्रह भी दक्षिण दिशा में स्तिथ रहता है अब Vashtu shastra की बात करें तो जिस दिशा में क्रूर ग्रह है उस दिशा में हमेशा समस्या बनी रहेगी.

दोस्तों, मगर इस महगाई और तंगी के दौर में बड़ी मुश्किल से इक इंसान अपने लिए मकान खरीदता है, और इसमें यदि इन सब बातों का ध्यान रखेगा तो कैसे चलेगा, तो दोस्तों हिन्दू धर्म और वास्तु शास्त्र (Vashtu shastr) में इस दोष के निवारण के लिए भी कई उपाय मौजूद है, जिनमे से एक उपाय ये है कि यदि आप घर के मुख्य द्वार पर भगवान हनुमान जी का चित्र लगाएं तो इस दिशा से मुक्ति पा सकते हैं, फिर आप अपने मुख्या पंडित से इसके सलाह ले सकते हैं. और सारे दोषों का निवारण पूजा करवाकर एक मकान को घर में परिवर्तित कर सकते हैं यहाँ सिर्फ आपके लिए खुशियां और तरक्की ही होगी.

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *